fistula kshar sutra treatment, fistula treatment, msarogyam, msarogyam kshar-sutra, piles kshar sutra treatment,भगन्दर यानी Fistula ; Curable by Ayurvedic treatment

31 Mar
fistula kshar sutra treatment, fistula treatment, msarogyam, msarogyam kshar-sutra, piles kshar sutra treatment, piles treatment, भगन्दर यानी Fistula ; Curable by Ayurvedic treatment
गुदा के मुकाम पर या रेक्टम के मुहाने  पर या near to ANUS wall के आस पास  यह बीमारी या तकलीफ होती है / सबसे पहले जब इस तकलीफ का आगाज होता है तो पाखाने के मुकाम पर पहले बड़ी खुजली होती है , जिसे खुजलाने में बड़ा मजा आता है और खुजलाने की न इच्छा होये हुये भी बार बार हाथ गुदा तक खुजलाने के लिये पहुच ही जाता है / कुछ दिन बाद इसी खुजली वाली जगह पर एक छोटी सी फुन्सी हो जाती है , जो पहले लाल हो जाती है फिर पकती है और पस से भरा हुआ एक छोटा सा बिन्दु बन जाता है / इसमे दर्द भी होता है, किसी किसी को दर्द नही होता है / अर्थात यह बिना दर्द के ्भी होता है , लेकिन ऐसा देखने में कम ही आता है /

दर्द के होने पर लोग उपचार लेते हैं और फिर लापरवाह हो जाते हैं , इसलिये यह छोटा सा घाव धीरे धीरे जगह बना हुआ गुदा के अन्दरूनी छोर तक जा पहुचता है और फिर तकलीफ देन शुरु करता है / कई बार यह देखा गया है कि जैसा इस  घाव का मिजाज बाहर से अन्दर के रुख की वजह से बनता है तो ठीक उल्टा यह गुदा से बाहर की तरफ भी बनता है  / लोग इस स्तिथि मे अक्सर भ्रम में पड़ जाते हैं और वे समझते हैं कि शायद गुदा में दर्द अन्दरूनी बवासीर के कारण हो रहा है , जबकि यह भगन्दर के घाव के कारण होता है /

बहर हाल भगन्दर का इलाज जैसे ही पता चले, शुरू कर देना चाहिये / आयुर्वेद का इलाज और Homoeopathy तथा प्राकृतिक उपचार इस तीनों के समन्वित चिकित्सा व्यवस्था से भगन्दर अवश्य ठीक हो जाते हैं / लेकिन इसके लिये चिकित्सक चाहे वह अकेला हो जिसे तीनों चिकित्सा विग्यान का अनुभव हो या यह न हो सके तो  तीनों चिकित्सा विधाओं के experts से तालमेल करके चिकित्सा व्यवस्था अगर करते हैं तो भगन्दर अवश्य ठीक हो जाता है /

Surgical intervention से भगन्दर ठीक भी होते हैं और नही भी / कई बार कुछ साल ठीक होने के बाद फिर दुबारा तकलीफ हो जाती है , इसलिये सरजरी कराने का निर्णय मरीज की अपनी इच्छा पर निर्भर है /

अगर ETG AyurvedaScan परीक्षण रिपोर्ट पर आधारित डाटा को लेकर “भगन्दर” का औषधि और अन्य तरीके को शामिल करके इलाज करते हैं  , तो अव्श्य फायदा होता है /

आयुर्वेद का क्षार सूत्र अथवा क्षार कर्म द्वारा भी भगन्दर का सटीक इलाज हो जाता है, इसके लिये किसी expert क्षार सूत्र चिकित्सक की सेवायें लेना चाहिये

More Related Links…..:

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: